अंबेडकर जयंती पर जाने बाबा साहेब के 10 अनमोल विचार – Ambedkar Jayanti 2022

0
208
अंबेडकर जयंती पर जाने बाबा साहेब के 10 अनमोल विचार Ambedkar Jayanti 2022
अंबेडकर जयंती पर जाने बाबा साहेब के 10 अनमोल विचार Ambedkar Jayanti 2022

Dr. BR Ambedkar Jayanti 2022

मध्य प्रदेश के डॉ. अंबेडकर नगरी महू (Dr. Ambedkar Nagar) में 14 अप्रैल को बाबा साहब अंबेडकर की जयंती पूर्ण श्रृद्धा और आस्था के साथ मनायी जानी है. श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिये काफी संख्या में लोगों के आने का सिलसिला शुरू हुआ है. दरअसल संविधान निर्माता बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती उनके जन्म स्थान अंबेडकर नगर महू में इस वर्ष भी पूर्ण श्रद्धा और आस्था के साथ से मनाई जाएगी.

अम्बेडकर जयन्ती या भीम जयन्ती डाॅ. भीमराव आम्बेडकर जिन्हें डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म दिन 14 अप्रैल को पर्व के रूप में भारत समेत पूरे विश्व में मनाया जाता है।इस दिन को ‘समानता दिवस’ और ‘ज्ञान दिवस’ के रूप में भी मनाया जाता है, क्योंंकि जीवन भर समानता के लिए संघर्ष करने वाले अम्बेडकर को समानता और ज्ञान के प्रतीक माना जाता है। अम्बेडकर को विश्व भर में उनके मानवाधिकार आंदोलन संविधान निर्माता और उनकी प्रकांड विद्वता के लिए जाने जाते हैं और यह दिवस उनके प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। अम्बेडकर की पहली जयन्ती सदाशिव रणपिसे इन्होंने 14 अप्रैल 1928 में पुणे नगर में मनाई थी। रणपिसे अम्बेडकर के अनुयायी थे। उन्होंने अम्बेडकर जयन्ती की प्रथा शुरू की और भीम जयन्ती के अवसरों पर बाबा साहेब की प्रतिमा हाथी के अम्बारी में रखकर रथसे, ऊँट के उपर कई मिरवणुक निकाली थी।

अम्बेडकर के जन्मदिन पर हर साल उनके करोड़ों अनुयायी उनके जन्मस्थल भीम जन्मभूमि महू (मध्य प्रदेश), बौद्ध धम्म दीक्षास्थल दीक्षाभूमि, नागपुर, उनका समाधी स्थल चैत्य भूमि, मुंबई जैसे कई स्थानिय जगहों पर उन्हें अभिवादन करने लिए इकट्टा होते है। सरकारी दफ्तरों और भारत के बौद्ध-विहारों में भी आम्बेडकर की जयन्ती मनाकर उन्हें नमन किया जाता है। विश्व के 100 से अधिक देशों में अम्बेडकर जयन्ती मनाई जाती है।

बाबा साहब के ये 10 अनमोल विचार

  1. मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाता है।
  2. यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।
  3. समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।
  4. जो व्यक्ति अपनी मौत को हमेशा याद रखता है, वह सदा अच्छे कार्य में लगा रहता है।
  5. शिक्षित बनो, संगठित रहो और उत्तेजित बनो।
  6. धर्म मनुष्य के लिए है न कि मनुष्य धर्म के लिए।
  7. मैं एक समुदाय की प्रगति को उस डिग्री से मापता हूं जो महिलाओं ने हासिल की है।
  8. एक महान आदमी एक प्रतिष्ठित आदमी से इस तरह से अलग होता है कि वह समाज का नौकर बनने को तैयार रहता है।
  9. वे इतिहास नहीं बना सकते जो इतिहास भूल जाते हैं।
  10. मनुष्य नश्वर है, उसी तरह विचार भी नश्वर हैं। एक विचार को प्रचार-प्रसार की जरूरत होती है, जैसे कि एक पौधे को पानी की, नहीं तो दोनों मुरझा जाते हैं और मर जाते हैं।

 

RRB NTPC Previous Year Paper PDF